Tuesday, 8 August 2017

तुझे दिए वादे को निभाने के लिए ....आज भी उतना ही सवरते है जितना मुझे सवारने की ज़िद तेरी

होती थी---हर लम्हा लगू तेरी नवेली सी दुल्हन,नूरानी चेहरे पे ना देखू कही भी थोड़ी सी शिकन --- उस

बात का मान रखने के लिए उसी नूर को बचा रखा है आज भी मैंने---ज़न्नत से कभी जो देखे तू मुझे

तेरी रूह को सकूँ मिले,इस बात का ख्याल रखा है आज भी मैंने---