Tuesday, 13 February 2018

कलम अपनी को जरा रोकिये ना,या फिर मुझ को इन्ही पन्नो पे कहानी की तरह लिख लीजिए ना ..

इतने लफ्ज़ो मे कभी मेरा नाम भी लिखा कीजिए,प्यार के अल्फाज़ो मे कुछ अल्फ़ाज़ हमारे नाम

भी कीजिए....सुन कर इन की बात हम बेतहाशा हँस दिए....याद कीजिए उस वक़्त को,हमारी कलम

की जादूगिरी पे कुर्बान सब से जय्दा आप थे...हम से जय्दा इन्ही पन्नो के कायल भी आप थे....उम्र

भर का जब साथ है,तो पन्नो पे नाम आप का क्यों लिखे ....दिल की किताब मे बसे है जब,तो कुछ

ख्याल अब हमारा भी तो कीजिए ......

Monday, 12 February 2018

आज वक़्त से पूछा हम ने,क्यूँ इतने मगरूर हो तुम....किसी जगह रुकते ही नहीं,किसी की बात क्यूँ

सुनते नहीं तुम.....खुशियाँ दे कर इंतिहा,फिर उन्ही को हम से क्यूँ छीन लेते हो तुम....ख़ुशी से जब

छलकती है यह आंखे,तो गमो को परोस कर इन्ही आँखों को क्यूँ बेतहाशा रुला देते हो तुम.....क्या

वजह है,ऐसा क्यूँ करते हो तुम..." मै अगर खुशियाँ ही खुशियाँ देता,तो मेरी कदर करता कौन..वक़्त

ही को रुला कर,दुसरो की खुशियाँ लूट लेता यही इंसान" जवाब दिया इसी वक़्त ने...सर झुकाया और

अदब से बोला हम ने,मगरूर तुम नहीं..घिनोने है हम इंसान.....


Sunday, 11 February 2018

बेपरवाह रहने के लिए,जरुरी था कि खुद को सवारा जाए....यह मुस्कान फिर लौट कर ना जाए कभी,

जरुरी था कि ज़मीर पे बोझ ना डाला जाए....चुपके चुपके कोई दर्द का झोका हम को रुला ना जाए,

खुद को आईने मे सौ बार निहारा हम ने.....सादगी मे जीने के लिए कोई ना टोके हम को,हर फूल से

हौले हौले उस का हुस्न चुराया हम ने.....जीते जी रोशन रहे दुनिया मेरी,हर किसी के हर सवाल को

सिरे से नकार दिया हम ने....

Wednesday, 7 February 2018

बदनाम गलियों से निकल कर,आरज़ू की राह देखी....सितम पे सितम झेले,मगर हसरतो की चाह

कभी ना भूले...पायल आवाज़ करती रही,बाशिंदे साज़ बजाते रहे....बहुत नाचे बदनाम गलियों मे

मेहमान नवाज़ी की रस्मो मे ढले,पंखो को उड़ान देना फिर भी ना भूले....किसी की लफ्ज़-अदाएगी

को अपना समझने की भूल ना कर बैठे,दिल को ख़बरदार करना कभी भी ना भूले...यह वो रंग है

इस दुनिया का,नकाबपोशों को सिरे से नकारना किसी पल भी नहीं चूके......

Tuesday, 6 February 2018

मंद मंद मुस्कुराते हुए,मेरे कानो मे हौले से जो उस ने कहा.....दिल की धड़कनो को कुछ समझाया

कुछ को जिगर के आर-पार किया.....रेशमी जुल्फों को अपना नाम दिया और घटा बन उन को

बरसने को कहा....हाथो की लकीरो पे नाम अपना लिख कर,जन्म भर का साथ मांग लिया....यह

इत्फ़ाक रहा या कोई मीठा सपना मेरा,जो उस ने हौले से कहा मेरे दिल ने आसानी से सुन जो लिया...

Monday, 5 February 2018

ज़िंदगी कहती रही ,हम सुनते रहे....वो सबक देती रही,हम सबक सीखते रहे....किसी मोड़ पे बर्बाद कर

वो हम पे हस पड़ी और हम.....बेबसी का घूट पी उस का सबक मानते रहे......ख़ुशी के लम्हो को जो

सहेजा हम ने,बात बात पे खिलखिला कर जब हसना सीखा हम ने......चुपके से फिर कही से वार

कर,हमें दर्द का वो तोहफा दिया कि ना रो सके ना फिर चुप रह सके.....जाए तो जाए कहाँ,बस इल्तज़ा

है ज़िंदगी...अब तो इंसाफ कर..कुछ ख़ुशी ऐसी तो दे कि तेरे नाम पे हम को नाज़ हो....

Sunday, 4 February 2018

आप को याद किया तो मुस्कुरा दिए....हर लम्हा साथ का याद कर शरमा गए .....आप तो आप है

इस बात के एहसास भर से,फक्र से दुनिया को आप का नाम बता गए.....जलन की आग जो भडकी

हम तो आप की कसम,सातवें आसमां पे आ गए.....खुशनसीबी पे अपनी इतरा इतरा गए....आप को

चाहना यक़ीनन हमारी खुदगर्ज़ी ना थी,मगर आप की जिंदगी मे हम शामिल है...यह दुआओ की

मर्ज़ी तो थी....