Wednesday, 16 August 2017

खवाबो को तपिश देने के लिए,तेरा ख्याल ही काफी है....वफ़ा की राह पे चलने के लिए,तेरा नाम ही

काफी है....फासले तो रहे गे ज़िन्दगी भर,किसी मोड़ पे मिल सके यह सोचना ही काफी है....मुखातिब

तो हू तेरी बातो से,गुजरे हर लम्हा तेरे साथ यह गुजारिश करना अब बेमानी है....समंदर की लहरों मे

उतर जाए,इस से बेहतर  है किनारो से गुफ्तगू का नाता जोड़ लिया जाए...यही काफी है....

Monday, 14 August 2017

बराबरी तेरे मेरे रिश्ते की कोई नहीं कर पाए गा......सात फेरो का बंधन है,जन्मो जनम चलता जाए गा

तूने ख़िताब दिया मुझे अपनी ज़िन्दगी के साथ चलने का.....तेरे मेरे प्यार के आगे अब कोई क्या कर

पाए गा....राहे मंज़िलो मे लोग मिलते है,गुफ्तगू के दायरे से बाहर ना चल पाते है.....अदब दिया हर

शख्स को,अपने संस्कारो को ना भूल पाए है...तेरी जगह तो बस तेरी है,इस को समझाने के लिए ना

वक़्त तेरे पास है,ना ही कभी वक़्त निकल पाए गा...

Sunday, 13 August 2017

रूबरू तो नहीं हुए कभी आप से ,कभी होंगे भी तो कब होंगे....किस्मत किसी मोड़ पे क्या करती है

राहे मंज़िलो मे किस को किस से मिलाती है,खवाबो को मंज़िल देने के लिए कभी रूकती है तो कभी

खवाबो को खूबसूरत सा नाम दे जाती है...ठहराव भरा है आप की बातो मे,एक अदब मिला सालो बाद

किसी से पन्नो की किताबो मे....लोगो की नज़र मे हम क्या होंगे,आप की नज़र मे फरिश्ता है इस से

जय्दा और खुशनसीब हम कहाँ होंगे....

Saturday, 12 August 2017

कलम हाथ मे जब भी आती है,अनगिनित अल्फ़ाज़ लिखती जाती है....कभी ज़ज़्बात बिखरते है तो

कभी खुशबु बन के हवाओ मे बिखर जाते है....यू ही रो देती है यह आंखे बरबस,तो कभी इन्ही पन्नो पे

सैलाब छोड़ जाती है...मुस्कुराते है जब याद कर के किन्ही  खुशनुमा लम्हो को,हाथ लिखते है मगर

एहसास भी साथ साथ मुस्कुराते है...सोचते है कभी कभी....कमाल इस कलम का है या अल्फ़ाज़ इस

रूह से निकल कर आते है....
सज गए तेरे लिए इस सादे से लिबास मे....कंगन नहीं,बिंदिया नहीं,पायल की खनक भी साथ नहीं

एक मुस्कान चेहरे पे,चमक आँखों मे प्यार की....जब छुहा तूने मुझे,प्यार के अहसास से...हज़ारो रंग

बिखर गए खामोश भरे अल्फ़ाज़ मे.....समझने के लिए अब कुछ बचा नहीं,बयां कर गए नैना चुपके

से तेरे साथ मे,महकते लम्हो की गुनगुनाती शाम मे...

Friday, 11 August 2017

बेपरवाह बादल ने कहा,चल साथ मेरे....इन्ही झुरमुटों मे छिपा है कही चाँद शायद,आ ढूंढ उसे साथ मेरे...

दुप्पटे की आड़ मे कुछ समझ नहीं पाए,है चाँद किधर यह भी ना जान पाए...बदहवास हालत मे क्या कहे

इस बादल से,मुखातिब हो तो हो कैसे कि डर से बात कही बिगड़ ना जाए....ख़ामोशी से चलते चलते इक

हसीं मोड़ पे बादल ने कहा...इंतज़ार उस चाँद का अब क्या करना कि यह चाँद नया तो आज है पहलू मे

मेरे....

Thursday, 10 August 2017

तेरी चाहत से परे,गर कोई दुनिया होती तो दिल को समझा भी लेते....रंजिशे ना होती जो इस ज़माने मे,तो

हर मुनासिब समझौता भी कर लेते....आँखों से सैलाब बहने देते,मगर राहे मंज़िलो को निभा भी देते...

रिश्तो मे गर खार ना होती,यक़ीनन जान की बाज़ी भी लगा देते....अंगारो पे चलते चलते भी,पाँव तक

बचा लेते....अब आलम है कि ज़ज़्बातो को कुचल दिया है इन्ही पैरो के तले,दिल को बचा लिया है तेरी

ही चाहत मे बस.........रहते रहते...